ये हैं भारत के 5 सबसे अमीर मुसलमान, जिनकी गिनती दुनियाभर के रईसों में होती है

दुनिया में अरबपतियों की संख्या तेजी से बढ़ रही है | जहाँ विश्व में अभी 2500 से भी ज्यादा अरबपति हैं, वहीं भारत में उनकी संख्या 140 तक पहुँच चुकी है | लेकिन अगर बात करें मुस्लिम अरबपतियों की, तो उनकी संख्या अभी देश में काफी कम है, परंतु भविष्य में बढ़ने की उम्मीद जताई जा रही है |

देश के अधिकांश मुस्लिम अरबपति सऊदी अरब और यूएई जैसे मध्य-पूर्वी देशों में रह रहे हैं | जहाँ से वे अरबों डॉलर के बिज़नेस को दुनियाभर में संचालित करते हैं और वहां के सबसे अमीर लोगों में गिने जाते हैं | तो आइए दोस्तों जानते हैं देश के 5 सबसे अमीर मुसलमानों के बारे में ?

1. Azim Premji (Wipro Limited)

अजीम प्रेमजी भारत के सबसे अमीर मुसलमान माने जाते हैं, जिनकी कुल अनुमानित संपत्ति जुलाई 2021 के अनुसार 65,000 करोड़ से भी अधिक है | वे देश कि प्रमुख आईटी कंपनी “विप्रो लिमिटेड” के मालिक हैं, जिसे भारत की सबसे बड़ी बहुराष्ट्रीय कंपनियों में से एक माना जाता है |

विप्रो की शुरुआत उनके पिता के द्वारा एक खाद्य तेल बनाने वाली कंपनी के रूप में की गई थी, लेकिन अजीम प्रेमजी ने अपनी काबिलियत के दम पर इसे एक वैश्विक आईटी कंपनी बना दिया | जो आज दुनियाभर के 100 से भी ज्यादा देशों में संचालित होती है | पिछले साल विप्रो ने लगभग 9 अरब डॉलर का राजस्व कमाया था, अधिकांश राजस्व अमेरिका, यूरोप और मध्य-पूर्वी देशों से आता है, जहाँ इसकी स्थिति बहुत मजबूत है |

2. M.A. Yusuff Ali (LuLu Group)

युसूफ अली देश के दुसरे सबसे अमीर मुसलमान माने जाते हैं, जिनकी कुल अनुमानित संपत्ति 35,000 करोड़ से भी ज्यादा है | वे देश की सबसे बड़ी शॉपिंग मॉल “लूलू ग्रुप इंटरनेशनल” के मालिक हैं, जो भारत के अलावा सऊदी अरब, क़तर, यूएई, बहरीन और कुवैत जैसे कई मध्य-पूर्वी देशों में संचालित होती है |

युसूफ अली का जन्म केरल के एक निम्न मध्यम वर्गीय मुस्लिम परिवार में हुआ था | बेहद कम उम्र में अपने चाचा के रिटेल व्यवसाय को संभालने के लिए वे आबू धाबी चले गए | जहाँ लम्बे समय तक रिटेल के क्षेत्र में अनुभव प्राप्त कर लेने के बाद उन्होंने खुद की कंपनी खोलने का फैसला किया | सन 2000 में उन्होंने “लूलू ग्रुप इंटरनेशनल” की शुरुआत की | जो आज दुनियाभर में 200 से भी ज्यादा शॉपिंग मॉल संचालित कर रही है |

3. Yusuf Khwaja Hamied (Cipla)

युसूफ ख्वाजा हामिद देश के तीसरे सबसे अमीर मुस्लिम शख्स माने जाते हैं, जिनकी कुल अनुमानित संपत्ति लगभग 16,000 करोड़ से भी ज्यादा है | वे देश की प्रमुख जेनेरिक दवा बनाने वाली कंपनी “सिप्ला लिमिटेड” के मालिक हैं, जो आज भारत के अलावा दुनियाभर के 50 से भी ज्यादा देशों में संचालित होती है |

सिप्ला की शुरुआत सन 1935 में उनके पिता के द्वारा एक रिसर्च लैब के रूप में की गई थी | जिसे युसूफ ख्वाजा हामिद ने अपनी मेहनत और काबिलियत के दम पर आज देश की प्रमुख जेनेरिक दवा कंपनी बना दिया | पिछले साल सिप्ला ने लगभग 2.5 अरब डॉलर का राजस्व कमाया था, जो मुख्य रूप से भारत, अमेरिका, अफ्रीका और यूरोपियन देशों से आता है |

4. Shamsheer Vayalil (VPS Healthcare)

समशेर वायलिल लगभग 10,000 करोड़ की अनुमानित संपत्ति के साथ देश के चौथे सबसे अमीर मुस्लिम माने जाते हैं | वे दुनिया की प्रमुख स्वास्थ्य सेवा प्रदाता कंपनी “VPS हेल्थकेयर” के मालिक हैं, जो मुख्य रूप से भारत, यूरोप और मध्य-पूर्वी देशों में संचालित होती है |

उनका जन्म केरल के एक समृद्ध मुस्लिम परिवार में हुआ था | वे बचपन से ही एक डॉक्टर बनना चाहते थे, जिसके लिए कर्नाटक के कस्तुरबा मेडिकल कॉलेज से उन्होंने MBBS कि डिग्री हासिल की | डॉक्टर बनने के बाद सन 2007 में उन्होंने खुद कि कंपनी “VPS हेल्थकेयर” कि शुरुआत की | जो आज कुछ ही सालों में दुनिया की प्रमुख हेल्थकेयर कंपनियों में शामिल हो चुकी है, जो मुख्य रूप से हॉस्पिटल, फार्मेसी और मेडिकल सेंटर संचालित करती है |

5. Azad Moopen (Aster DM Healthcare)

आजाद मूपन भारत की प्रमुख हेल्थकेयर कंपनी “एस्टर डीएम हेल्थकेयर” के मालिक हैं, जिन्हें लगभग 7,000 करोड़ की अनुमानित संपत्ति के साथ देश का पांचवा सबसे अमीर मुसलमान माना जाता है | वे दुबई में रहकर कंपनी चला रहे हैं, जो मुख्य रूप से भारत और मध्य-पूर्वी देशों में हॉस्पिटल, फार्मेसी और मेडिकल सेंटर का सबसे बड़ा संचालक है |

उनका जन्म केरल के एक समृद्ध मुस्लिम परिवार में 1953 में हुआ था | उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से MBBS की डिग्री हासिल की और एक डॉक्टर के रूप में करियर शुरू किया | बाद में सन 1987 में उन्होंने खुद की हॉस्पिटल चेन “एस्टर डीएम हेल्थकेयर” की शुरुआत की | जो आज देश की प्रमुख हॉस्पिटल संचालकों में से एक बन चुकी है |

Leave a Comment